Postponing One Promise and Making Another

I promised a fresh rant in the last post. Well, I am postponing that. Instead, I am making another promise.

A fresh rave to follow, inspired by the work of a responsible genius.

Do you also do that?! Oh yes, the manic phase!

I said to ‘to follow’. I am not going to rave now. Try depressive.

I have a very valid reason (excuse!) for these promises and postponements: I am buried, right now. Under deadlines.

God! there are so many of them! You can’t meet them all.

Author: anileklavya

मैं सांगणिक भाषाविज्ञान (Computational Linguistics) में एक शोधकर्ता हूँ। इसके अलावा मैं पढ़ता हूँ, पढ़ता हूँ, पढ़ता हूँ, और कुछ लिखने की कोशिश भी करता हूँ। हाल ही मैं मैने ज़ेडनेट का हिन्दी संस्करण (http://www.zmag.org/hindi) भी शुरू किया है। एक छोटी सी शुरुआत है। उम्मीद करता हूँ और लोग भी इसमें भाग लेंगे और ज़ेडनेट/ज़ेडमैग के सर्वोत्तम लेखों का हिन्दी (जो कि अपने दूसरे रूप उर्दू के साथ करोड़ों लोगों की भाषा है) में अनुवाद किया जा सकेगा।

One thought on “Postponing One Promise and Making Another”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.