The Lowest Form of Life

Watching someone else go about his daily life and daily work. Day in and day out. Everywhere. Alone or in collusion with others.

Becoming more and more prevalent in the 21st century.

Get a ******* life! as they say.

 

Don’t worry. This is not a problem for us. Our media management infrastructure will make it the highest form.

You worry about your life.

 

Okay. Fair enough [in 21st century].

What about wastage of resources?

Author: anileklavya

मैं सांगणिक भाषाविज्ञान (Computational Linguistics) में एक शोधकर्ता हूँ। इसके अलावा मैं पढ़ता हूँ, पढ़ता हूँ, पढ़ता हूँ, और कुछ लिखने की कोशिश भी करता हूँ। हाल ही मैं मैने ज़ेडनेट का हिन्दी संस्करण (http://www.zmag.org/hindi) भी शुरू किया है। एक छोटी सी शुरुआत है। उम्मीद करता हूँ और लोग भी इसमें भाग लेंगे और ज़ेडनेट/ज़ेडमैग के सर्वोत्तम लेखों का हिन्दी (जो कि अपने दूसरे रूप उर्दू के साथ करोड़ों लोगों की भाषा है) में अनुवाद किया जा सकेगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.