Dystopian Dilemma

Dystopian scenarios, especially distopian fiction, are supposed to serve as cautionary tales. The purpose is to warn about the possible futures, so that we (usually human beings as a species, or as society) can take the necessary precautions to avoid them.

The problem is, that the powers that be usually (whether knowingly or not) end up using these scenarios as instruction manuals for implementing their policies more efficiently.

Should we then avoid coming up with dystopian scenarios at all?

Author: anileklavya

मैं सांगणिक भाषाविज्ञान (Computational Linguistics) में एक शोधकर्ता हूँ। इसके अलावा मैं पढ़ता हूँ, पढ़ता हूँ, पढ़ता हूँ, और कुछ लिखने की कोशिश भी करता हूँ। हाल ही मैं मैने ज़ेडनेट का हिन्दी संस्करण (http://www.zmag.org/hindi) भी शुरू किया है। एक छोटी सी शुरुआत है। उम्मीद करता हूँ और लोग भी इसमें भाग लेंगे और ज़ेडनेट/ज़ेडमैग के सर्वोत्तम लेखों का हिन्दी (जो कि अपने दूसरे रूप उर्दू के साथ करोड़ों लोगों की भाषा है) में अनुवाद किया जा सकेगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.