शांति का ब्याह

बापू को ले गए डाकू
भगत सिंह को दुबारा फाँसी हो गई
सुभाष के तो फूलों का ही ठीक नहीं
और शांति का हो गया ब्याह

लक्ष्मी सेठ की तिजोरी में बंद हैं
विष्णु सुना है किसी रिज़ॉर्ट में
हैं और विरह में तड़प रहे हैं
ब्रह्मा जनसंख्या नियंत्रण की
अनवरत कोशिश में लगे हैं
भोलेनाथ को भस्मासुर से
बचाने के लिए कोई नहीं आया
शक्ति पर अब महाशक्ति का पेटेंट है
सरस्वती तस्वीर में बंद थीं
जिसे किसी ने जला डाला

अर्जुन कभी हरम बनाता है
कभी बृहन्नला बन जाता है
द्रौपदी फ़ैशन मॉडलिंग में है
भीम डब्ल्यू डब्ल्यू एफ़ में है
कर्ण कार दुर्घटना में नहीं रहा
कन्हैया का कहीं पता नहीं है

विश्वामित्र की तपस्या के लिए
जंगल में जगह ही नहीं बची
वो ऐल्कोहोलिस्म में जा फँसे हैं

एक महावीर ने वैष्णव ढाबों
की चेन खोल ली है
दूसरे का अपहरण कर लिया है
उनके प्रभु के साथ
एक आतंकवादी गुट ने
दूसरे आतंकवादी गुट से लड़ाई में
जिसकी क़ैद में हैं अरब के पैंगबर
बुद्ध एक विस्फोट का शिकार हो गए
हालांकि बहुत से बहुरूपिए
बुद्ध के भेस में घूम रहे हैं
और ईसा ने मेल जिबसन की
फ़िल्म कंपनी ज्वाइन कर ली

एकलव्य की खटपट हो गई
द्रोण से भी और धृतराष्ट्र से भी
उसका अंगूठा काट लिया गया
वैसे वो अब भी लगा पड़ा है
पर अफ़वाह है कि सदमे से
उसका सिर फिर गया है

जैसा कि ऊपर कहा गया
बापू को ले गए डाकू
शांति का हो गया ब्याह
और एकलव्य का फिर गया सिर
वगैरह वगैरह वगैरह

तो आप आजकल क्या कर रहे हैं?

 

[2009]