सूरज-चांद

सूरज क्यों जल रहा है?
क्यों खुदकुशी कर रहा है?
शहीद होना चाह रहा है?

बुरी बात है, बुरी बात है

जल रहा है और जला रहा है
जल-जला के कह रहा है
जल रहा हूँ मैं जल रहा हूँ

बुरी बात है, बुरी बात है

पता नहीं क्या लाखों सूरज
इससे अनगिन बड़े निरंतर
जल भी रहे हैं जला भी रहे हैं

बुरी बात है, बुरी बात है

चांद का क्या ख़्याल है?

शहीदों को नमन

शहीद दिवस पर हम करते हैं
तमाम शहीदों को हार्दिक नमन

बेशक बहुत शुभ रहा है
हमारे लिए जितना उनका जीवन
उतना ही उनका असमय मरण

तो आइए करते हैं इस दिन यह प्रण
भविष्य के हम जैसे लोगों के लिए इसी क्षण
निभाते रहेंगे हम दुनिया की प्राचीन रीत
बनाते रहेंगे हम नये-नये शहीद

 

[2009]