Weaponizable Technologies

250px-Panopticon

Weapon are devices

That can harm people

Can also harm property

But that’s less important

 

Weapons are technologies

Not necessarily physical

As in the Foucauldian sense

 

In that sense,

They can also

Harm society

And culture,

Civilizations

Humanity itself

 

And,

More importantly

The very idea of

What humanity is

 

In the Foucauldian sense, they

Can generate chain reactions

Just like nuclear technologies

And they can destroy humanity

Just like fission-fusion weapons

 

Weapons or technologies

Are not tied to a particular

Ideology or even a religion

 

In the Foucauldian sense,

Conventional technologies

 

Are clandestinely

Or benevolently

Developed, and

Are weaponized

 

They are proliferated

Then are exposed

Are opposed, and

Then, gradually

Are normalized

Are assimilated

Into our social fabric

 

The protests against the weapons

And weaponized technologies

As in the world we have made

Not necessarily in the world

That we could perhaps make

Are very predictable phonomena

 

They can start out very strong

Then they become a shadow of

Themselves, or even a parody

 

At best they can become, and

Exist for a longish time, even

Perhaps with ups and downs

 

With limited longish term achievements

Or with very impressive short term ones

Or with no effect on the status quo at all

 

A connoisseur’s delight

They often are reduced to

 

At worst they may become

Freak shows on the fringes

As Kipling showed in a story

Even if they are genuine

Not the fake ones: A part

Of Manufactured Dissent

 

They are morally

And ethically

And legally

Sanctioned finally

 

That means that

They are approved

By general society

 

And they become

An integral part

A necessary part

Of the civilization

 

They are never

Ever sufficient

 

They become fait accompli

Which is a terrifying phrase

 

After enough time

They are taken

For granted

Are not even

Noticed in our

Everyday life

 

Most of us forget what they mean

Or what they are, how they work

They become part of our natural

Reality, our very natural universe

 

Who can use weapons?

 

Anyone can use them

If they can get access

 

To them, somehow, anyhow

 

And they will be used

Later on, if not sooner

Over there, if not here

At least in the beginning

 

The good guys can use them

Or those who claim to be so

We all know what that means

 

The bad guys can use them

The ugly guys can use them

The evil guys can use them

 

Individually evil can use them

Collectively evil can use them

 

More likely the latter

 

Anyone anywhere anytime on

The whole political spectrum

Can use them, if less or more

Individually or collectively

 

More likely the latter

 

There is absolutely

No guarantee that

Any of the above

Or indeed all of them

Can’t use them at all

Ever and anywhere

 

But can the weak and the meek

Or the tired and the poor

Use them as much as the

Strong and the powerful

To the same extent, even

For the purpose of self-defense?

 

Can single individuals use them

As much as the collective

To the same extent, even

For the purpose of self-defense?

 

First they are used over there

On those we don’t care about

Then they are used over here

 

And when that happens

There are fresh protests

 

We all care about ourselves

Even if we don’t about them

 

Once again, they

Are exposed: For us

Are opposed, and

Then, gradually

Are normalized

Are assimilated

Into our social fabric

Our very own life

 

Excluding them over there

They are already included

We still don’t care about them

We still care only for ourselves

 

Like before, again

They are morally

And ethically

And legally

Sanctioned finally

 

This time, however

For us, not just them

 

Some weaponized technologies

Are so totally unthinkably evil

That their existence is not even

Acknowledged, for preserving

Collective sense of being good

 

Such technologies are only used

Clandestinely, outside all records

So they leave no evidence at all

 

Who do they mean to target?

The demonized are targeted

Mentally-ill may be targeted

Truly subversive freethinkers

May be targeted, selectively

Misfits and loners can also

Be targeted with these ones

 

And, above all

 

The uncontaminated

(Unalloyed, if you like

Or unallied, if you like)

The incorrigible

Truth seekers, As

They may be called

Justice seekers also

Unalloyed or unallied

Can be targeted with

These unacknowledged

Weaponized technologies

In the Foucauldian sense

 

For The Greater Good

Seems they are called

Coal Mine Canaries

Freelance Test Rats

They may not be paid

May not even consent

 

They don’t even know this

That have been made that

This is the most evil part

Of the scheme, in which

 

All “schematism” had to be avoided

 

So they can’t even share

Without anyone at all

Let alone lodge a protest

 

They become Dead Canaries

If they come uncomfortably

Close to the truths that matter

 

In fact, these technologies

Are, by their very nature

Made only for selective use

Personalization is their

Key feature, their identifier

 

One of them had even

Got put on the record

Perhaps due to naïveté

It was called Zersetzung

It specifically recorded

Naïvely, as it turned out

It specifically wrote down

 

All “schematism” had to be avoided

Because that would make opposition

And protest against it easily possible

 

It being: The collective using it?

 

Individual simply can’t use it

Not to the same degree and reach

Not anywhere remotely close

 

Or the technology itself only?

 

Or why not both of them?

 

But we had better not forget

Technologies are the means

Religions and ideologies are

About the ends, not the means

For them, practically speaking

Ends always justify the means

 

Even if they are, unthinkably

Unredeemably, only pure evil

 

However, we are all endowed with

The extreme powers of self-deception

Individually yes, but also collectively

 

So we still manage to think that they

Are still for them, over there, not us

They are within our society, never us

They are still for them, not over here

Over there can be much nearer now

But it is still over there, and for them

 

Thus, once more magically

They become fait accompli

With a very different context

But actually the same context

 

They are always necessary

So it is claimed, benevolently

But they are never sufficient

 

This is a universal theorem

If you like to be very precise

Then it is at the very least

A pretty likely conjecture

 

And so we march on forward

Or even backward oftentimes

 

In search of new weapons

And ever new technologies

 

That can be weaponized

Easily and yes, inevitably

Even if you don’t believe

In Inevitabilism at all

 

What really is inevitable

However, is the fact that

Some weak, or the meek

Or an isolated individual

Perhaps crazy, perhaps not

Will use them occasionally

Usually after provocation

But sometimes without it

 

Or some collective

Rogue or not rogue

 

A matter of definition

 

Will also make use of them

Regularly or occasionally

 

That is a great opportunity

A motivation for finding

Implementing and using

Ever more lethal weapons

Weaponized technologies

And some non-lethal ones

In the Foucauldian sense

 

We find new evils

We define new evils

We create new evils

 

We get new weapons

To fight newest evils

Which creates even

More ever new evils

 

Thus the circle of evil

Closes in upon us all

Over there, over here

 

So what do you think about it?

***

Originally published on 14th August, 2019. Updated on 15th August, 2019.

Punishment Determines Crime

Crime and punishment

Are highly correlated

 

Humanity doesn’t need to live

In the chains of causality

The final frontier for humanity

 

Causality requires us to understand

The whole continuous bi-directional

Network of effects and their causes

 

Therefore,

 

To free humanity from the chains

Of complicated tangled causality

Punishment determines the crime

 

What was the crime

Based on which

And how much

Was the punishment

 

Therefore,

 

In order to reduce crimes, you can

Catch someone: anyone, anywhere

And make sure to punish them well

This can be done: is easily achievable

With near total, complete certainty

 

Therefore,

 

If you are someone being punished

You must have committed a crime

 

Even if you don’t remember it

Even if you think you know

That you haven’t committed it

 

You surely must have committed it

Why would you be punished

If you hadn’t committed the crime?

 

It is not logical in a world that has been

Liberated from the clutches of causality

 

Therefore, for example

 

All military aged males over there

Wasted in our Double Tap strikes

Are, by definition, *bleep, bleep*

The Best, the Worst and the Dog

Celebrate the worst ones

Encourage the worse ones

Discourage the better ones

Persecute the best ones

 

Give lollypops and soap operas

To all those in the normal middle

 

And occasionally you throw them

A slick and crafty Shutter Island

For good effect, or just for the fun

 

Never mind the giant leaky holes

And shady twisted morbid corners

It still works for the normal middle

 

Why? Why, of course! Because

 

It is perfect as a counter-alibi

It is a boot stamping on a human

Face, forever. This boot has the

Legendary Auteur stamp on it

 

The lineage is from another of

The Auteurs who believed it

Was good to say BOO! from time

To time to the normal middle

 

Lollypops and soap operas are

All very well. But BOO! will do the

Trick for more ambitious things

 

This is not the Mockingbird Boo

But the Psycho BOO! you know

The two are completely different

But the two do have a connection

 

And so the tail will forever happily

Wag the rest of the happy healthy dog

 

***

Who wrote this shit?

 

Why did you write this?

 

Well, I didn’t write this.

You did that, of course.

हक़

कोई मेरे पास आए
साथ चलने के लिए
और मैं उसे भगा दूँ
दुत्कार कर
फटकार कर
सबके सामने
बेइज्जत कर के

तब भी अगर वो ना जाए
तो मैं उसके होने को ही
नज़रअंदाज़ कर के दिखा दूँ

वो बार-बार आता रहे
और मैं बार-बार यही करूँ
तो क्या मुझे हक़ बनता है
उसे दोष देने का
इसलिए कि उसने साथ नहीं दिया
इसलिए कि वो अब साथ नहीं चल रहा
जबकि मेरी खुद की सांठ-गांठ उन्हीं से है
जिनकी यातना और दुत्कार से बचते हुए
वो मेरे पास आया था

साथ चलने के लिए
इसलिए कि किसी और को
यातना और दुत्कार दिए जाने से रोका जा सके

जबकि मुझे यही नहीं पता
कि वो क्या कर रहा है
और क्यों कर रहा है

किसी के सारे रास्ते बंद करके
(दुनिया से ही टिकट कटा लेने को छोड़ कर)
क्या कोई किसी को पाठ पढ़ा सकता है
कि जीवन कैसे जिया जाए
कि नैतिकता के मानदंड क्या हैं?

इंकलाब के पहले

अन्याय हर तरफ फैला है
पूंजी का बोलबाला है
सच का सर्वत्र मुँह काला है

ये हालात तो बदलने ही होंगे
बदलाव के हालात बनाने होंगे

तभी तो इंकलाब आएगा
हर जन अपना हक पाएगा

पर उसके पहले बहुत से काम
जो अभी तक पूरे नहीं हुए
वो सब के सब निपटाने होंगे

वो कोने में जिसे अधमरा करके
बड़े दिनों से डाल रखा है
वो अब भी, हद है आखिर,
कभी-कभार बड़-बड़ किए रहता है

उसे सबक सिखाना होगा
उसके भौंकने को बंद कराना होगा
पहला बड़ा काम तो यही है
इसके बिना आगे कैसे बढ़ सकते हैं?

फिर आपस के झगड़े भी तो हैं
तगड़े हैं, एक से एक बढ़ के हैं
एक-दूसरे को सबक सिखाना होगा
एक-दूसरे का भौंकना बंद कराना होगा

दूसरा बड़ा काम यह भी तो है
इसके बिना आगे कैसे बढ़ सकते हैं?

फिर कुछ डरे सहमे
असुरक्षित लोगों ने
अपनी बुद्धि का
अपने ज्ञान का
और तो और
अपनी प्रतिभा का!
(हद है!, हद है!
कितनी अकड़ है!)
आतंक फैला रखा है
यहीं, इंकलाबियों के बीच!

उनका मटियामेट कर के ही
सच्चे इंकलाबी दम ले सकते हैं
उन्हें अपने साथ लाकर नहीं

एक तीसरा बड़ा काम यह जो है
इसके बिना आगे कैसे बढ़ सकते हैं?

ऐसे कितने ही काम और हैं
जिन्हें निपटाना है
इंकलाब के पहले

इसी से याद आया
एक काम तो यही है
कि इन कामों में
जो अड़चन पहुँचाए
उसे हड़का-हड़का के
आपसी झगड़े
ज़रा देर को भुला के
मिल-जुल कर
ऊपर पहुँचाया जाए

इसके बिना आगे कैसे बढ़ सकते हैं?

कवि परीक्षा

एक बार जब हमने कुछ कविताएँ लिख डाली थीं तो हुआ ये कि एक दिन हमें उनमें से कुछ को दुबारा पढ़ते हुए लगा कि हिन्दी की तमाम साहित्यिक पत्रिकाओं और बहुत सी किताबों में भी जो कविताएँ छपा करती हैं उनसे ये कुछ बुरी तो नहीं हैं। बल्कि हमें ईमानदारी से लगा कि उनमें से अधिकतर से तो अच्छी ही हैं। तो साहब हमने सोचा कि इन्हें खुद ही पढ़-पढ़ कर कैसे चलेगा, क्यों ना इन्हें छपवाने की कोशिश की जाए। फिर क्या था, हमने उनकी एक-एक कॉपी निकाल कर एक फ़ाइल में सजाया जैसे नौकरी का उम्मीदवार अपनी डिग्रियाँ, मार्कशीट और प्रमाणपत्र सजाता है। इस फ़ाइल को एक अच्छे से बैग में, जो मुफ़्त में कहीं से कभी मिला था, रख कर पहुँच गए एक प्रकाशक के दफ़्तर।

दफ़्तर कोई शानदार नहीं था, लेकिन हिन्दी, वो भी साहित्य, का प्रकाशन दफ़्तर होने के लिहाज से बुरा भी नहीं था। लगता था यहाँ कुछ पाठ्यपुस्तकें या कॉफ़ी टेबल टाइप की किताबें भी छपती होंगी। हो सकता है धार्मिक पुस्तकें भी छपती हों। लगा शायद कविता छपने का कुछ मानदेय भी मिल सकता है। और तो और, एक रिसेप्शनिस्ट भी थी। उसी ने दफ़्तर की हिन्दी-सापेक्ष शान से ध्यान हटा कर पूछा कि क्या चाहिए। गलत मत समझिए, पूछा ऐसे शब्दों में ही था जैसे शब्दों में कोई रिसेप्शनिस्ट पूछती है, पर हमें ऐसे शब्द ठीक से याद नहीं रह पाते।

उद्देश्य बताने पर उसने एक फ़ॉर्म जैसा पकड़ा दिया। पूछा तो बताया कि ये कुछ सवालों की लिस्ट है जिनके जवाब देने के बाद ही संपादक से मिल कर कविता के बारे में बात हो सकती है। सवाल कुछ ऐसे ही थे जैसे किसी झटपट परीक्षा में पूछे जाते हैँ। अब हमने इतनी और ऐसी-ऐसी परीक्षाएँ दी हैं कि कुछ सोचे बिना ही सवाल मुँह से निकल पड़ा कि इस परीक्षा में पास मार्क्स कितने हैं। रिसेप्शनिस्ट ने नाराज़ सा होकर कहा कि पास मार्क्स क्या मतलब, यह साहित्य प्रकाशन का दफ़्तर है। फिर बोली कि वैसे कम से कम तैंतीस प्रतिशत सवालों के जवाब सही होने पर ही कविता छापने की संभावना पर गौर किया जाएगा। जब हमने पूछा कि ये क्या कोई नया इंतज़ाम है, तो बोली कि नहीं ऐसा तो न जाने कब से हो रहा है। कमाल की बात है, हम अपने-आप को साहित्य का बड़ा तगड़ा जानकार समझते थे और हमें ये बात पता ही नहीं थी।

उन सवालों में से जितने याद पड़ते हैं, उन्हें नीचे दिया जाता है। भाषा के बारे में जो ऊपर कहा गया उसे ध्यान में रखा जाए। सवालों का क्रम बिगड़ा हुआ हो सकता है।

  1. आप कला से हैं या विज्ञान से?
  2. आप कोई मंत्री, अफ़सर या कम-से-कम प्रोफ़ेसर हैं?
  3. आपकी कविताओं में से कितनी प्रकृति-प्रेम की कविताएँ है?
  4. आपकी कविताओं में से कितनी प्रेम कविताएँ है?
  5. आपकी कविता से कभी कोई लड़की पटी है?
  6. आपकी कविता पढ़ कर कभी किसी हसीना ने आपको ख़ुतूत लिखे हैं?
  7. माफ़ करें, लेकिन क्या आप खुद हसीना हैं?
  8. आपने कभी याराने-दोस्ताने पर कोई कविता लिखी है?
  9. आपके दोस्तों की संख्या कितनी है?
  10. क्या आपकी कोई प्रेमिका है?
  11. क्या आप शादी-शुदा हैं?
  12. क्या आप अपनी घरवाली से प्रेम करते हैं?
  13. आपकी कविताओं में से कितनी वीर रस की कविताएँ हैं?
  14. आपकी कविताओं को कोई गाता-वाता है?
  15. आपकी कविताओं में से कितनी गाने लायक हैं?
  16. आपके कवि-गुरू कौन थे?
  17. क्या आपने उनकी जितना हो सका सेवा की?
  18. आप कवियों की संगत में रहे हैं?
  19. क्या आपने काफ़ी समय कॉफ़ी हाउस में बहस करते हुए गुज़ारा है?
  20. आप किसी कवि से सिफ़ारिश पत्र ला सकते हैं?
  21. आप किसी भी बड़े आदमी से सिफ़ारिश पत्र ला सकते हैं?
  22. आप किसी से भी सिफ़ारिश पत्र ला सकते हैं?
  23. आपने जो कविताएँ अभी लिखी हैं, उन्हें ब्लॉग वगैरह पर तो नहीं डाल रखा?
  24. आप ब्लॉग लेखक तो नहीं हैं?
  25. आपने कोई महाकाव्य लिखा है?
  26. आपने कोई खंडकाव्य लिखा है?
  27. आपने कोई लंबी कविता लिखी है?
  28. आपने किसी कवि-सम्मेलन या मुशायरे में कविता पढ़ी है?
  29. आपकी कविता कभी किसी फ़िल्म में शामिल हुई है?
  30. आपकी कविता कभी किसी नाटक में शामिल हुई है?
  31. आपको कविता लिखने के लिए कभी कोई फेलोशिप आदि मिली है?
  32. आप हिन्दी साहित्य के किसी गुट के सधे हुए सदस्य हैं?
  33. अगर हम आपकी कविताओं का संग्रह छाप दें तो क्या आप उसकी एक हज़ार या अधिक प्रतियाँ खरीदने के लिए तैयार हैं?
  34. क्या आपके ऐसे संबंध हैं कि आप अपने कविता संग्रह को कहीं पाठ्यपुस्तक बनवा सकें?
  35. क्या आपके ऐसे संबंध हैं कि आप हमारे अन्य प्रकाशनों को विज्ञापन दिलवा सकें?
  36. क्या आप खुद हमारे अन्य प्रकाशनों को विज्ञापन दिलवा सकते हैं?
  37. क्या आप धार्मिक कविताएँ लिखते हैं?
  38. क्या आप राष्ट्रवादी कविताएँ लिखते हैं?
  39. क्या आपकी कविताओं की राजनीति पाठकों के किसी खास समूह को एक साथ आकर्षित कर सकती है?
  40. क्या आपकी कविताएँ किसी प्रतिष्ठित परंपरा की हैं?
  41. क्या आप कविता की किसी नई परंपरा के प्रवर्तन का दावा करते हैं?
  42. क्या आप समझते हैं कि आपके जैसी कविताएँ आजकल फ़ैशन में हैं?
  43. क्या आपकी कविताएँ पहले कहीं छपी हैं?
  44. आपके ही नाम वाला कोई कवि पहले से तो मौजूद नहीं है?
  45. आप पहले से दूसरों की कविताओं के अनुवादक तो नहीं हैं?

इतना तो हमें मालूम है कि नौकरी के उम्मीदवार को, खास तौर से अगर वो नया हो, अक्सर कहाँ पता होता है कि उसकी डिग्रियाँ, मार्कशीट और प्रमाणपत्र किसी खास काम के नहीं हैं। उनकी ज़रूरत सिर्फ़ उम्मीदवारों (कैसा बढ़िया शब्द है!) की भीड़ का आकार नियंत्रण में रखने के लिए होती है। पर यहाँ तो पता चला कि मामले का प्रमाणपत्र तक पहुँचना ही दूर की बात है।

अपन तो चुपके से भाग आए वहाँ से। बेस्ती हो जाती। आज तक कभी डबल ज़ीरो नहीं आया।

खुश हुआ खुश हुआ

[ये श्री अनिल एकलव्य जी के एक विद्वतापूर्ण शोधपरक लेख का खड़ी बोली कविता में अनुवाद है। मूल लेख बिजली के खेल में हुए हार्ड डिस्क क्रैश के कारण खो गया है। उसे रिकवर करने की कोशिश चल रही है। तब तक यही सही।]

जंगल-जंगल पता चला है
धोती पहन के मोगैंबो खिला है
पगड़ी पहन के गब्बर सिंह सजा है

पिछली बार जो लठैतों-डकैतों ने
तोड़ा-फोड़ी और पिटाई की वो याद ही है तुम्हें
तो ये मसला अब बहुत लंबा खिंच गया है
जज साहिबान, अब इसे लॉक किया जाए

अबकी अगर शामत न आई हो
तो समझ से काम लो और चुप बैठो
हमने रियायत कर दी है तुम्हारे साथ
पर लठैत-डकैत अभी संत नहीं हो लिए हैं

ज़रूरत पड़ी तो जो कहा गया था
वही होगा
तलवारें निकल आएंगी म्यान से
और जो भी करेगा विरोध
वो जाएगा जान से

हाँ, ये ठीक है – अबकी कोई शोर नहीं
बड़ा डिग्नीफ़ाइड रिस्पौंस रहा है
लगे रहो, जमे रहो, सीख जाओगे

खुश हुआ, मोगैंबो खुश हुआ
गब्बर सिंह को ये शरीफ़ाना नाच
ब-हु-त पसंद आया
ये परिवार के साथ देखने लायक है

परिवार समझते हो ना?
क्या करें
आजकल के बच्चे परिवार संस्कार
सब भूलते जा रहे हैं

उसके बारे में भी कुछ करेंगे
सर्च एंजिन वालों से भी बात चलाई है
पर फिलहाल तो इस फिल्म को
अगले साल ऑस्कर में भेजेंगे

[कविता में किए इस अनुवाद में घटिया फ़िल्मों का ज़िक्र आने का ऐसा है कि अनुवादक बेचारा खुद एक भयंकर घटिया फ़िल्म में एक ऐक्स्ट्रा है। दुआ कीजिए कि इस नई फ़िल्म को ऑस्कर मिल जाए। तब शायद अनुवादक को भी इनाम में माफ़ी मिल सके।]

पनहद

मैंने सोचा था
कमीनेपन की
कोई तो हद
होती होगी

इसका उल्टा जानने की
मेरी कोई इच्छा नहीं थी

पर कोई मेरे घर
आकर और खाकर
ज़बरदस्ती बता गया
कि नहीं होती
एकदम नहीं होती

भाव खाना

कुछ लोगों को भवसागर में आने से लेकर
भवसागर पार हो जाने तक लगातार
बहुत चाव से भाव खिलाया जाता है
यहाँ तक कि कभी-कभी तो उनको
भाव ही बहुत सस्ता लगने लगता है

कुछ और लोग होते हैं जो आने के बाद
कभी, कहीं, किसी तरह दूसरे लोगों से
भाव खाने का हक हासिल कर लेते हैं

ऐसे लोगों की तो गिनती ही नहीं है जो
बावर्दी या मुफ़्ती, तलवार से या मीठी छुरी से
बहुतों से बहुत सा भाव छीनने के एवज में
अपने लिए भी और अपनों के लिए भी
अपने और अपनों के सपनों के लिए भी
जितना हो सके भाव का इनाम पा लेते हैं

ऐसे भी होते हैं जिन्हें घूमते-घामते ही
हालात का चक्का बिना किसी कारण
औरों से भाव खाने का परमिट दे जाता है

बाकी रहे वो जिन्हें काव-काव करके
अपनी ज़बान तमाम जला डालने
या मुँह ही सिलने-सिलवा-लेने पर भी
कोई रत्ती भर भाव देने को राज़ी नहीं होता

उन्हें तहज़ीब को ऊपर ताक पर रख कर
पालथी मार कर और हाथ धो-धाकर
जो भी जितना भी जैसा भी और जब भी जुटे
रोकर हँस कर या बुद्धं शरणं सा भाव धर कर
खुद ही खुद को भाव खिलाना पड़ता है

सूरज-चांद

सूरज क्यों जल रहा है?
क्यों खुदकुशी कर रहा है?
शहीद होना चाह रहा है?

बुरी बात है, बुरी बात है

जल रहा है और जला रहा है
जल-जला के कह रहा है
जल रहा हूँ मैं जल रहा हूँ

बुरी बात है, बुरी बात है

पता नहीं क्या लाखों सूरज
इससे अनगिन बड़े निरंतर
जल भी रहे हैं जला भी रहे हैं

बुरी बात है, बुरी बात है

चांद का क्या ख़्याल है?