पेट की चीख़

प्रतिक्षण प्रतीक्षा का प्रहार
साहबों के गले में फूलों का हार
बासी खिचड़ी और अधसड़ा अचार
प्यास से गठबंधित पेय
और भूख से हठबंधित आहार
चैन की नींद के फालूदे का जलता स्वाद

तृप्त शरीरों और तरोताज़ा चेहरों की गुफ़्तगू
नहा कर नये कपड़े पहने शब्दों का
मंजे हुए दांतों, घिसी हुई जीभों और धुले-पुंछे होंठों से लेकर
तौलिये से रगड़कर साफ़ किए हुए कानों तक
कुशल यातायात प्रणाली के तहत आवागमन

पाचन तंत्र के रसों से घायल आमाशय
और सूखी-जली आँतों का घुटता हुआ दम
नींद की कमी से तिलमिलाते मस्तिष्क का
गले से होकर उतरता ही जाता गुस्सा

पर मानवी सभ्यता के मंदिर में भी गूंजता
और बाकी सभी शब्दों को ढक लेता हुआ
एक आदिम, बल्कि पाशविक उद्गम का,
लेकिन एकदम सभ्य सुसंस्कृत सवाल —
मेरे पेट की चीख़ सुनी तो नहीं किसी ने?

[2009]